कात्यायिनी

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

माँता दुर्गा कय छठवा स्वरूप कय नाव कात्यायनी होय। वह दिन साधक कय मन 'आज्ञा' चक्र में स्थित होत अहै। योगसाधना में ई आज्ञा चक्र कय अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान अहै। इ चक्र में स्थित मन वाला साधक माँत कात्यायनी कय चरण में आपन सर्वस्व निवेदित कई देत अहै।